सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

एसिडिटी का तुरंत इलाज । acidity in hindi ।

Acidity in hindi  - बहुत सारे लोगों को हाइपर एसिडिटी की तकलीफ होती है। उनका पित्त बहुत ही ज्यादा बढ़ता है। एसिडिटी मतलब अम्लपित्त।  कई लोगों को तो अपने आप ही उल्टी हो जाती है।  कुछ लोग तो रोज सुबह मुंह में उंगली डालकर उल्टी करते हैं। तभी उनका दिन अच्छा जाता है।
यह आर्टिकल आपकी एसिडिटी जड़ से खत्म कर देगा । इसमें मैं आपको एसिडिटी  का  आयुर्वेदिक उपचार बताऊंगा।  एसिडिटी के मॉडर्न एलोपैथिक औषधि भी बताऊंगा और कुछ उपाय बताऊंगा एसिडिटी कम करने के। साथ में एसिडिटी का तुरंत इलाज भी।
एसिडिटी के लक्षण । acidity ke lakshan ।
छाती में दुखना, पेट के ऊपरी भाग में जलन होना, बार बार उल्टी आना, उल्टी आने जैसा महसूस होना।  बहुत दिनों का सिर दर्द,  अंग खुजाना, मुंह में बार बार पानी आना, यह अम्ल पित्त बढ़ने के लक्षण है।
एसिडिटी का आयुर्वेदिक उपचार 
लघु सुतशेखर -  इसके टेबलेट आती है।  दो टेबलेट आपको दिन में तीन बार हनी, शहद में घोलकर खानी है। खाली पेट। 
कामदुधा रस -  इसके भी टेबलेट आती हैं। दो टेबलेट दिन में तीन बार पानी के साथ।  वह भी खाली पेट।
शंख भस्म-  इस की पाउडर आती है। आधा छोटा चम्मच से एक छोटा चम्मच शंख …

पल्स ऑक्सीमीटर इन हिंदी। pulse oximeter in hindi ।

पल्स ऑक्सीमीटर इन हिंदी - pulse oximeter in hindi- 

इस कोरोना काले में  हमारे घर में दो इंस्ट्रूमेंट होना बहुत ही आवश्यक है। पहला है पल्स ऑक्सीमीटर और दूसरा है थर्मल स्कैनर । कॉन्टैक्टलेस इंफ्रारेड थर्मल स्कैनर। 
इस आर्टिकल में सिर्फ हम पल्स ऑक्सीमीटर की ही बात करेंगे। 
बहुत सारे लोगों ने पल्स ऑक्सीमीटर घर पर लिया हुआ है।  कुछ लोग लेने की फिराक में है ।  कुछ लोगों को इसका यूज पता है।  इसके readings पता है। पर  बहुुत सारे लोगो को  इसका यूज कैसे करते हैं उसका उपयोग क्या है पता नहीं है।
तो अब हम पल्स ऑक्सीमीटर कौन सी उंगली में इस्तेमाल करना चाहिए?  उसमें रीडिंग कौन-कौन सी होती है?  उसमें नॉर्मल रीडिंग्स कौन-कौन सी है pulse oximeter normal readings in hindi और कब हमें कोरोना की टेस्ट करवा लेनी चाहिए?  यह देखेंगे। 
Pulse oximeter readings in hindi 
पहला है spo2 परसेंटेज , इसका मतलब है हमारे ब्लड में ऑक्सीजन का परसेंटेज कितना होता है।  दूसरा है PR rate, यानी पल्स रेट हर्ट रेट। इसका मतलब है 1 मिनट में हार्ड कितनी बार पंप करता है या, बीट करता है। 
तीसरा है पी आई (PI)  परफ्ययूजन इंडेक्स। perfusio…

Garmi kam karne ke upay। heat kam karne ke upay Swagat Todkar।

Garmi kam karne ke upay- बहुत सारे लोगों को हीट बढ़ने की तकलीफ होती है। बहुत सारे लोगों को शिकायत यह होती है कि, डॉक्टर हमारे शरीर में गर्मी बहुत है।  जिससे जल्दी से जल्दी कम कीजिए।  आप में से बहुत सारे लोग शरीर की गर्मी की वजह से परेशान होंगे। 
तो आज हम इसी के बारे में जानकारी लेंगे की हीट बढ़ने के लक्षण कौन-कौन से हैं?  शरीर की गर्मी कम करने के लिए घरेलू उपाय कौन से हैं?  Garmi kam karne ke upay,  गर्मी से बचने के उपाय और अंत में इसके आयुर्वेदिक उपचार भी बताऊंगा। सो लेट्स स्टार्ट।
हीट बढ़ने के लक्षण
शरीर अपने आप को ही गर्म महसूस होता है। शरीर का टेंपरेचर नॉरमल टेंपरेचर से थोड़ा सा बढ़ा  हुआ रहता है। इन पेशेंट को पसीना बहुत ज्यादा आता है। दूसरे लोगों को जब ठंड लग रही होती है तब यह लोग फैन लगा कर बैठ जाते हैं।
शरीर ज्यादा गर्म रहता है। खासकर मान पाठ चेहरा और आंखें ज्यादा गर्म रहती है।  कुछ लोगों को हाथ पैरों के तलवों में जलन महसूस होती है। कुछ लोगों को हाथ पैरों में झुनझुनाहट सी महसूस होती है।  या फिर वह सुनने पड़ते हैं।  बार बार मुंह के छाले आना,  लेडीज में पेशाब को जलन होना, पिशाब को जल…

कान का मैल निकालने की दवा । clearwax ear drops in hindi । कान का मैल निकालने की drop ।

कान का मैल निकालने की दवा- ईयर वैक्स यानी कान का गंधक। यानी कान का मैल। जो लोग अपने कान पर ज्यादा ध्यान नहीं देते उन लोगों में कान का मैल जमा होना यह समस्या पाई जाती है। खासकर यह छोटे बच्चों में ज्यादा पाई जाती है।  क्योंकि वह अपने कान पर ज्यादा ध्यान नहीं देते।
कान का मैल नीकालने की दवा 
कान का मैल अगर पूरी तरह से सूख जाए तो वह निकलने में बहुत ही तकलीफ देता है। अगर उसका कान में कंकड़ हो जाए तब तो निकालना नामुमकिन ही हो जाता है। तब लोग कान का मेल, वैक्स निकालने के लिए बहुत सारे घरेलू उपाय करते हैं। 
 कुछ लोग तो कान के डॉक्टर के पास जाते हैं। लेकिन यह सब दर्दनाक होता है। तो इस आर्टिकल में मैं आपको एक ऐसी दवाई बताऊंगा जिससे आपके कान का मैल निकल कर जट से बाहर आ जाएगा। वह आपको दुखेगा भी नहीं । बिल्कुल ही नहीं दुखेगा।
Clearwax ear drops in hindi 
उस ड्रॉप का नाम है क्लियर वैक्स clearwax ear drops in hindi। जो सिपला कंपनी का आता है। दूसरे भी ब्रांड नेम के औषधि चलेगी लेकिन कंटेंट्स सेम होना चाहिए। सोल्लू वैक्स soluwax भी बहुत फेमस है।
इसका कंटेंट है पैराडाइ क्लोरो बेंजीन paradichlorobenzen, बेंजोक…

Covid-19 vaccine in hindi । कोरोना वैक्सीन।

Covid-19 vaccine - दुनिया के बहुत सारे देश वैक्सिंग खोज निकालने में जुटे हुए हैं। इनमें से चार वैक्सीन बहुत ही महत्वपूर्ण है।  पहला अमेरिका के मॉडर्ना vaccine,  दूसरे रशिया  कि Gamalia यूनिवर्सिटी की वैक्सीन, जो मैंने पहले बताया। तीसरी है ऑक्सफर्ड जो ब्रिटेन की कंपनी है, जिसका उत्पादन भारत में सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। चौथी है भारत बायोटेक की कोएक्सिंग covaccine ।Read this post in ENGLISH 

Covid-19 vaccine 
सबसे पहले बात करेंगे रशिया की वैक्सीन के बारे में। उन्होंने यह  वैक्सीन उनके देश के फ्रंट  लाइन कोविड-19 योद्धाओं को ही लिए देना शुरू कर दिया है।  और उन्होने डिक्लेअर कर दिया है कि अक्टूबर से हर एक नागरिक को रशिया के दी जाएगी। यह टीका  भारत में बनाने के लिए डिस्कशन अभी जारी है।

लेकिन यह वैक्सीन दिसंबर से पहले भारतीयों में दिए जाने की आशायें  बहुत ही कम है। क्योंकि इसका मास प्रोडक्शन अभी से शुरू हुआ है। लेकिन वो पहले रशिया में ही दी जाएगी। इसका उत्पादन भारत में भी शुरू हुआ तब भी उसका टेस्टिंग नहीं किया गया है।  हम भारतीयों के ऊपर पहले फेस 1 फेस टू फेस 3 का टेस…

रक्तदान करने के फायदे। blood donation benefits in hindi ।

रक्तदान के फायदे- आप यह जानते ही होंगे कि रक्तदान करना बहुत ही पुण्य का काम है।  रक्तदान श्रेष्ठदान।  रक्तदान ही जीवन दान।  यह स्लोगन तो आपने सुना ही होगा। आप का दिया हुआ एक बोतल खून  4 लोगों की जान बचाता है।  ये आपको पता ही  होगा।
लेकिन क्या आपको पता है की ब्लड डोनेशन अगर आप रेगुलर तौर पर करें, तो आपके शरीर को भी बहुत ही फायदेमंद है। तो यह आर्टिकल में , मैं आपको यही बताऊंगा कि रेगुलर रक्तदान करने से आपको क्या-क्या फायदे हो सकते हैं।
रक्तदान के फायदे रक्तदान आप सिर्फ 6 महीने में एक ही बार कर सकते हैं। उसे ज्यादा बार आप रक्तदान नहीं कर सकते । आपका वजन कम से कम 50 किलो या फिर उससे ज्यादा होना चाहिए। उससे कम नहीं होना चाहिए। 
आपको कौन सी भी खतरनाक बीमारी नहीं होनी चाहिए। जैसे कि hiv aids।  अगर आप हाल ही में किसी बड़ी बीमारी का शिकार हुए हैं। जैसे कि टाइफाइड मलेरिया या फिर कौन सा भी बड़ा ऑपरेशन। तो आप रक्तदान नहीं कर सकते। 
अगर आपको ब्लीडिंग डिसऑर्डर है। आपका रक्त नहीं जमता , तभी आप रक्तदान नहीं कर सकते।  अगर आप अभी बीमार हो, चाहे बुखार हो, या फिर सर्दी खासी तब भी रक्तदान नहीं कर सकते।
Blood d…

Becosules capsule uses in hindi । b complex tablet uses in hindi।

Becosule capsule uses in hindi - आज हम बात करेंगे बी कांपलेक्स विटामिन के बारे में। यह एक बहुत ही फेमस गोली है। बहुत सारे लोगों को इसके बारे में पता है।  जब मैं किसी को भी पूछ लूंगा कि आप b complex की गोली कब लेते हैं?  तो बहुत सारे लोग यही बताएंगे कि, जब हमें मुंह के छाले होते हैं तब हम खुद से ही जाकर मेडिकल से गोली लेते हैं।
ब्रांड नेमस ए कैप्सूल बिगसूल bigsule,  कैप्सूल बीकोस्यूल्स becosule.  इस कैप्सूल के बहुत सारे उपयोग है। सिर्फ मुंह के छालों में ही यह  उपयोगी नहीं है।  इसके सेवन से बहुत सारी बीमारियां ठीक होती हैं। तो आज हम यही देखेंगे कि बी कॉन्प्लेक्स में कौन-कौन से विटामिन होते हैं और कौन-कौन सी बीमारियां ठीक होती है। becosules capsule uses in hindi ।
बी कांपलेक्स एक समूह है विटामिंस का। टोटल 8 प्रकार के विटामिंस है। पहला हे b1 thiamine, B2 राइबोफ्लेविन, b3 सिंह b6 पैराडॉक्साइम b7 पैंटोथैनिक एसिड, b9 बायोटीन, b 12 methylcobalamin,  folate इन सारे विटामिंस को मिलाकर ही बी कॉन्प्लेक्स बनता है।
बहुत सारे brands में यह  सारे  vitamins नहीं होते हैं।  सिर्फ b1, b2 , बी सिक्स और b12 …