सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दाद खाज खुजली का इलाज। fungal infection treatment in hindi ।।

Fungal infection treatment in hindi
Daad khaj khujli ka ilaj 


  दाद खाज खुजली का ईलाज -   यह ब्लॉग खासकर उन लोगों के लिए है, जो फंगल इन्फेक्शन यानी कि दाद खाज खुजली की दवाइयां लेकर थक गए हैं;  लेकिन वह ठीक नहीं हो रहा। कुछ लोगों को यह थोड़ा-थोड़ा या थोड़ी ही जगह पर होता है। और कुछ लोगों को यह बहुत ज्यादा यानी पूरे शरीर पर होता है। पहले वक्त थोड़ा सा ही होता है एक दो जगह ही, फिर वापिस बढ़ते बढ़ते जा कर पूरे शरीर पर आ जाता है।
Read this post in English 

   कुछ लोग रिंगार्ड लगाते हैं, क्योंकि यह बहुत ही फेमस दवाई है। कुछ लोग मेडिकल में जाकर केमिस्ट की सलाह से औषधि लेते हैं लगाते हैं। पर कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा, या आपने डॉक्टर को भी दिखाया होगा, डर्मेटोलॉजिस्ट को - यानी त्वचा के स्पेशलिस्ट को, और कुछ लोगों ने तो बहुत महीनों तक दवाई ली होगी। पर अगर आपका दाद खाज खुजली ठीक नहीं हो रहा; तो मैं आपको इसका पूरी तरह से रामबाण इलाज बताऊंगा, जिसकी वजह से फंगल इन्फेक्शन पूरी तरह से और हमेशा के लिए ठीक हो जाए।

   दाद होने की जगह

      दाद पूरे शरीर पर कहा कहा होता है? वैसे तो यह पूरे शरीर पर किधर भी हो सकता है, लेकिन ज्यादातर यह जांघों के बीच में, चेहरे पर , कमर पर और पैरों मैं होता है।

      दाद को पहचाने कैसे?

     दाद को पहचाने कैसे? पहले तो खुजली- खुजली बहुत सारी होती है। आदमी दिन भर खुजाता ही रहता है। उसका कलर लाल होता है । कुछ कुछ कैसेस में ज्यादा खुजाने के बाद काला भी पड़ता है। वह आकार में गोल गोल आते हैं,  यानी circular सर्कुलर मैनर में, और वह फैलते भी गोल गोल ही है। वह  किनारे पर मोटा होता है और बीच में पतला होता है।

Read more- leptospirosis 

    दाद होने के कारण 

      दाद होने के कारण क्या क्या है? पहला और महत्वपूर्ण कारण है ज्यादा पसीना आना, और उस पसीने का स्कीन पर यानी त्वचा पर ज्यादा देर तक ठैरना। दूसरा कारण है इम्यूनिटी immunity कम होना। जिनकी इम्यूनिटी कम हो जाती है उन पर फंगस जल्दी अटैक कर देता है। तीसरा है एड्स AIDS के पेशेंट में यह ज्यादा होता है। साथ ही साथ शुगर के पेशेंट और ज्यादातर बीमारियां जिनमें एंटीबायोटिक ज्यादा दिनों तक दी जाती है, उनको दाद खाज खुजली होने के चांसेस बहुत ही ज्यादा होते हैं।

     दाद खाज खुजली का ईलाज 

      अब सबसे महत्वपूर्ण बात यानी कि फंगल इनफेक्शन की ट्रीटमेंट।  सबसे पहले यह बात मैं आपको बता दूं कि आप self-medication बिल्कुल ही मत करें। self-medication यानी खुद से ही दवाई लेना। मेडिकल में जाकर या फिर देसी दवाई आप बिल्कुल ही मत लीजिए। इसका अच्छी तरह से ट्रीटमेंट सिर्फ और सिर्फ डॉक्टर ही कर सकते हैं। आप अपने फैमिली डॉक्टर को दिखा सकते हैं, या फिर स्किन स्पेशलिस्ट को, लेकिन डॉक्टर से ही या फिर डॉक्टर की सलाह से ही औषधि लीजिए।

       अगर आपको दाद अभी अभी हुआ है, 5-7 दिनों में ही, या फिर एक दो जगह ही,और छोटी-छोटी आकार में है ; तो आपके लिए सबसे बेस्ट cream  है डरमी फाइव dermi 5 क्रीम। यह आपको मेडिकल में आसानी से मिल जाएगी,  इसको हर रात में सोते समय दाद के ऊपर लगाइए और रात भर उसे रहने दीजिए। ऐसा आपको कम से कम 1 महीना करना है इससे छोटे दाद कम हो जाते हैं।

Malaria vaccine read more 

      दाद अगर हाल ही में हुआ हो, लेकिन ज्यादा जगह पर हो ; यानी 7-8 जगह पर हो, तो डरमी फाइव क्रीम के साथ आपको katican soap  भी नहाते वक्त हर रोज लगाना चाहिए। इसमें content है ketoconazole । लेकिन यह याद रखें कि साबुन सिर्फ आप ही इस्तेमाल करें, घर के किसी भी व्यक्ति को नहाने के लिए न दे।

       अगर आपका दाद एक दो महीने में ठीक नहीं हो रहा और यह बढ़ता ही जा रहा है, तो आपको तुरंत ही फैमिली डॉक्टर या फिर डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह लेनी पड़ेगी। ज्यादा हुए फंगल इंफेक्शन के लिए सबसे कारगर दवाई है टेबलेट cap. Itrabel 200 , इसमें  itraconazole इट्राकोनाजोल 200  कंटेंट होता है ।इतराकोनाजोले 200mg आपको दिन में एक बार सुबह खाने के बाद लेनी होगी।

 इसके साथ दूसरी गोली है टेबलेट टरबीनाफोर्स t. Terbinaforce 250 एमजी। यह टेबलेट आपको रात में खाने के बाद लेनी होगी। यह कोर्स पूरा आपको 3 महीने तक, चूके बिना करना होगा। तभी आपका दाद पूरी तरह से खत्म हो जाएगा। इसके साथ जिधर जिधर दाद है, उधर लगाने के लिए सबसे बेस्ट क्रीम है luwill क्रीम, इसमें कंटेंट है लुलिकॉनाजोले  luliconazole । यह क्रीम आपको रात में सोते समय जिधर जिधर दाद दाद है उधर उधर लगाने की है, यह क्रीम आपको रात भर रखने की है और सुबह नहाते वक्त  धो डालने की है। इसका भी कोर्स आपको 3 महीने तक रेगुलर करना ही पड़ेगा।

      इन सब औषधियों के साथ-साथ आपको हर रोज एक एसिडिटी की कैप्सूल लेनी पड़ेगी। क्योंकि इस से एसिडिटी होती है।  यह सब दवाइयों की जानकारी मैंने आपको सिर्फ इसलिए दी है क्यों की इन औषधियों का आपको पूरी तरह से ज्ञान  हो जाए। लेकिन यह दवाई  आप खुद से न ले, किसी डॉक्टर को पूछ कर या उनकी सलाह पर , उनके प्रिसक्रिप्शन पर ही ले। अगर आपको लगता है कि आपका दाद खाज खुजली पूरी तरह से ठीक हो जाए , तो आप को क्या-क्या करना चाहिए ?पहले तो डॉक्टर द्वारा दी गई औषधियों का कोर्स पूरा करें। औषधि बीच में ही ना छोड़े,कोर्स की औषधि की एक भी गोली चूकनी नहीं चाहिए।

     कुछ लोग क्या करते हैं कि 7-8 दिन में अगर दाद कम हो जाए तो, औषधि लेना बंद कर देते हैं। ऐसा ना करें , औषधि का कोर्स पूरा कर ले और जब भी डॉक्टर  दिखाने को बोले हो , तब तब उनको जाकर दिखाएं। यह बीमारी एक आदमी से दूसरे आदमी को फैलती है । तो जिस किसी भी व्यक्ति को फंगल इंफेक्शन हो तो उससे दूर ही रहे, उसका सामान या फिर कपड़ा न छुए।  पेशेंट के पूरे कपड़े 10 मिनट तक उबाले हुए पानी में भिगोकर रखें और उसके बाद धो डालें।

      मेरी बताई हुई औषधि का सेवन अगर आप टाइम पर करेंगे और कोर्स पूरा करेंगे,  तो आपका दाद खाज खुजली पूरी तरह से ठीक हो जाएगा।

Read more- HIV AIDS SYMPTOMS
Fungal infection treatment in hindi
Fungal infection 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोविड-19 टीका

दुनिया के बहुत सारे देश वैक्सिंग खोज निकालने में जुटे हुए हैं। इनमें से चार वैक्सीन बहुत ही महत्वपूर्ण है।  पहला अमेरिका के मॉडर्ना vaccine,  दूसरे रशिया  कि Gamalia यूनिवर्सिटी की वैक्सीन, जो मैंने पहले बताया। तीसरी है ऑक्सफर्ड जो ब्रिटेन की कंपनी है, जिसका उत्पादन भारत में सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। चौथी है भारत बायोटेक की कोएक्सिंग covaccine ।
Read this post in ENGLISH 

Covid-19 vaccine 
सबसे पहले बात करेंगे रशिया की वैक्सीन के बारे में। उन्होंने यह  वैक्सीन उनके देश के फ्रंट  लाइन कोविड-19 योद्धाओं को ही लिए देना शुरू कर दिया है।  और उन्होने डिक्लेअर कर दिया है कि अक्टूबर से हर एक नागरिक को रशिया के दी जाएगी। यह टीका  भारत में बनाने के लिए डिस्कशन अभी जारी है।

लेकिन यह वैक्सीन दिसंबर से पहले भारतीयों में दिए जाने की आशायें  बहुत ही कम है। क्योंकि इसका मास प्रोडक्शन अभी से शुरू हुआ है। लेकिन वो पहले रशिया में ही दी जाएगी। इसका उत्पादन भारत में भी शुरू हुआ तब भी उसका टेस्टिंग नहीं किया गया है।  हम भारतीयों के ऊपर पहले फेस 1 फेस टू फेस 3 का टेस्टिंग होगा। उसके नतीजे अगर अच…

Melasma in hindi

Melasma in hindi - बहुत सारे लोगों के चेहरे पर झाइयां आ जाती है।  इसे अंग्रेजी में मेलास्मा भी कहते हैं । चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं।  झाइयों के ऊपर, काले दाग धब्बों के ऊपर आपको बहुत सारे आर्टिकल्स ब्लॉग्स  मिल जाएंगे।  किसी ने 3 दिन में दाग धब्बे कम करने को कहा है। किसी ने इसके ऊपर घरेलू उपाय बताएं है।
Read this post in English

     लेकिन मैं आपको आज झाइयां हटाने के लिए, चेहरे के काले दाग धब्बे हटाने के लिए, एक ऐसी क्रीम बताऊंगा जिससे आपकी दाग धब्बे पूरी तरह से और हमेशा के लिए ठीक हो जाएंगे। यह पूरी तरह से साइंटिफिक जानकारी होगी। और इसके साथ साथ कोई टिप्स भी बताऊंगा जिससे यह फिर से वापस ना आए।

झाइयों किन में आती है। melasma।          झाइयां यह बीमारी ज्यादातर औरतों में पाई जाती है। पुरुषों में इसका प्रमाण बहुत ही कम है। इसमें क्या होता है कि पूरे चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं। पूरे चेहरे पर खासकर के दाग धब्बे ज्यादातर गाल, नाक , माथा, lips के आजू-बाजू के हिस्से में ज्यादा आ जाते हैं।
Read more- hangover treatment in hindi  झाइयों का कारण। causes of melasma ।            और…

Coronavirus prevention in hindi

Coronavirus prevention in hindi  - कोरोनावायरस ने तो दिमाग खराब कर रखा है। इधर जाओ, उधर जाओ,  कोरोनावायरस, न्यूज़ लगाओ तो भी सिर्फ और सिर्फ कोरोनावायरस है। पूरा विश्व अब इंतजार कर रहा है कि कोरोनावायरस कब जाएगा और हम कब चैन की सांस ले सकेंगे। लेकिन कोरोनावायरस है कि वह जाता ही नहीं है।

Read this post in English

        WHO डब्ल्यू डब्ल्यू एच ओ ने स्पष्ट कर दिया है कि शायद कोरोनावायरस अब कभी भी नहीं जाएगा। जैसे स्वाइन फ्लू रहेगा वैसे ही कोरोनावायरस कोविड-19 रह सकता है। और साथ ही दूसरे शास्त्रज्ञोंकी माने तो अगर कोरोनावायरस गया भी तो कम से कम 6 महीने से 1 साल तो वह रहेगा ही रहेगा। उसके  बाद ही उसके कम होने के चांसेस है।

       अभी lockdown धीरे  धीरे उठ रहा है। दुकानें शुरू हो गई है, कंपनी शुरू हो गए हैं, लोग अपने अपने जॉब पर जाने लगे हैं। धीरे-धीरे कुछ दिनों में पूरी तरह से लॉक डाउन उठ जाएगा। मेट्रो सिटीज से गांव में लोग आना शुरू हो चुके हैं। इन दोनों वजह से पूरे देश में अब कोरोनावायरस फैलने का बहुत ही ज्यादा चांसेस है। तो अभी हमें बहुत ही ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ेगी।             अगर ह…