सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अश्वगंधा के फायदे । ashwagandha benifits in hindi ।

Ashwagandha
Ashwagandha benifits
 अश्वगंधा के फायदे- अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक औषधि है। भारत में इसे 3000 सालों से इस्तेमाल कर रहे हैं। यह आयुर्वेदा की सबसे महत्वपूर्ण औषधि  है।  इसके फल, बीज, पत्ते, खाल, मूली सभी का औषधि  इस्तेमाल है। इसके सबसे ज्यादा औषधि  है मूली।  मूली का चूर्ण तो आज के आर्टिकल में हम, अश्वगंधा चूर्ण  का  उपयोग देखेंगे।

Read this post in English 

Benifits of ashwagandha 

     1. सबसे पहला और महत्वपूर्ण फायदा है कि अश्वगंधा चूर्ण से स्ट्रेस एंड anxiety यानी तान तनाव कम होता है। आज के इस फास्ट लाइफ में टेंशन बहुत ही आम बात है। इसके ऊपर एलोपैथिक की औषधि भी दी जाती है। लेकिन उसके बहुत सारे साइड इफेक्ट है। अश्वगंधा चूर्ण टेंशन तो कम करता ही है, लेकिन इसके कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

     2.  इसे मसल मास यानी माउंस पेशिया बढ़ती है।आयुर्वेद में अश्वगंधा को रसायन कहा जाता है। रसायन यानी इसके सेवन से इंसान लंबी  और निरोगी आयु जीता है।  इससे इंसान बहुत सालों तक जवान रह सकता है। और बुढ़ापा जल्दी नहीं आता। इसके इस्तेमाल से मसल मास, मांसपेशियां बढ़ती है। सप्तधातु भी बढ़ते हैं। इसका उपयोग वजन बढ़ाने के लिए किया जाता है। शरीर में ताकत आ जाती है। इंसान चुस्ती और फुर्ती का एहसास करता है।

      3.जिन पुरुषों को संतति नहीं प्राप्त हो रही है। उनमें पुरुषत्व की कमी है। तो उसके लिए अश्वगंधा सबसे बेहतरीन है। इससे फर्टिलिटी बढ़ती है। संतान न होने के प्रमुख दो कारण होते हैं। स्पर्म काउंट कम कम होना और स्पर्म की मोटिलिटी कम होना। अश्वगंधा से स्पर्म की संख्या भी बढ़ती है और उसकी मोटिलिटी यानी एक्टिविटीज भी बढ़ती है।
Hangover treatment in hindi

अश्वगंधा के फायदे 

    4. Increases sex Desire- इससे  काम इच्छा बढ़ती है। कामेच्छा कम होने के दो प्रमुख कारण होते हैं। पहला स्ट्रेस रिलेटेड लैक ऑफ़ सेक्स डिझायर और दूसरा testosterone hormones की कमी। जैसे मैंने पहले बताया कि stress, anxiety एंजाइटी अश्वगंधा से कम होती है।  तो stress रिलेटेड सेक्स डिजायर का ashwagandha इसका परमानेंट सॉल्यूशन है। अश्वगंधा चूर्ण से टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की लेवल बढ़ती है और हार्मोन की वजह से कामेच्छा  बढ़ती है।

     5. इससे कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड की लेवल कम हो जाती है। कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड ही heart के लिए बहुत ही हानिकारक होते हैं। इनकी लेवल कम हो जाने से हार्ट  की बीमारियां भी बहुत हद तक कम हो जाती है।

    6.अश्वगंधा डायबिटीज में भी बहुत मददगार है। diabetes से शुगर लेवल बढ़ती है।  एक तो इंसुलिन की लेवल शरीर में कम हो जाती है और कोशिकाओंकी इंसुलिन लेने की क्षमता यानी इंसुलिन सेंसटिविटी भी कम हो जाती है। अश्वगंधा चूर्ण से इंसुलिन लेवल भी बढ़ती है और इन cells की इंसुलिन सेंसटिविटी insulin sensitivity भी बढ़ती है। इससे शुगर लेवल नॉर्मल रहने में मददगार साबित होती है।
Read more- HIV vaccine 

अश्वगंधा चूर्ण 

   7. यह कैंसर की रोकथाम में मददगार है। कैंसर सेल्स की उत्पत्ति और कैंसर सेल्स का बढ़ाना इससे कम हो जाता है।

    8. इसमें पेन किलर और एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज है। इसका मतलब आप और आपका घुटने में दर्द हो मान,पाठ, कमर दर्द कर रही हो, तो उसका दर्द कम हो जाता है। उसके साथ साथ उधर  की सूजन और लाली भी कम हो जाती है।

     9. Increases brain function  and memory- इससे ब्रेन फंक्शन और मेमोरी भी बढ़ती है। मस्तिष्क जोर से काम करने लगता है। याददाश्त अच्छी रहती है।  मस्तिष्क से रिलेटेड डिसीसिस जो है जैसे कि अल्जाइमर डिजीज इसमें अश्वगंधा कारगर साबित हुई है।
Stay fit stay healthy ।
Read more- tablets at home 
Ashwagandha
Ashwagandha benifits in hindi 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोविड-19 टीका

दुनिया के बहुत सारे देश वैक्सिंग खोज निकालने में जुटे हुए हैं। इनमें से चार वैक्सीन बहुत ही महत्वपूर्ण है।  पहला अमेरिका के मॉडर्ना vaccine,  दूसरे रशिया  कि Gamalia यूनिवर्सिटी की वैक्सीन, जो मैंने पहले बताया। तीसरी है ऑक्सफर्ड जो ब्रिटेन की कंपनी है, जिसका उत्पादन भारत में सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। चौथी है भारत बायोटेक की कोएक्सिंग covaccine ।
Read this post in ENGLISH 

Covid-19 vaccine 
सबसे पहले बात करेंगे रशिया की वैक्सीन के बारे में। उन्होंने यह  वैक्सीन उनके देश के फ्रंट  लाइन कोविड-19 योद्धाओं को ही लिए देना शुरू कर दिया है।  और उन्होने डिक्लेअर कर दिया है कि अक्टूबर से हर एक नागरिक को रशिया के दी जाएगी। यह टीका  भारत में बनाने के लिए डिस्कशन अभी जारी है।

लेकिन यह वैक्सीन दिसंबर से पहले भारतीयों में दिए जाने की आशायें  बहुत ही कम है। क्योंकि इसका मास प्रोडक्शन अभी से शुरू हुआ है। लेकिन वो पहले रशिया में ही दी जाएगी। इसका उत्पादन भारत में भी शुरू हुआ तब भी उसका टेस्टिंग नहीं किया गया है।  हम भारतीयों के ऊपर पहले फेस 1 फेस टू फेस 3 का टेस्टिंग होगा। उसके नतीजे अगर अच…

Melasma in hindi

Melasma in hindi - बहुत सारे लोगों के चेहरे पर झाइयां आ जाती है।  इसे अंग्रेजी में मेलास्मा भी कहते हैं । चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं।  झाइयों के ऊपर, काले दाग धब्बों के ऊपर आपको बहुत सारे आर्टिकल्स ब्लॉग्स  मिल जाएंगे।  किसी ने 3 दिन में दाग धब्बे कम करने को कहा है। किसी ने इसके ऊपर घरेलू उपाय बताएं है।
Read this post in English

     लेकिन मैं आपको आज झाइयां हटाने के लिए, चेहरे के काले दाग धब्बे हटाने के लिए, एक ऐसी क्रीम बताऊंगा जिससे आपकी दाग धब्बे पूरी तरह से और हमेशा के लिए ठीक हो जाएंगे। यह पूरी तरह से साइंटिफिक जानकारी होगी। और इसके साथ साथ कोई टिप्स भी बताऊंगा जिससे यह फिर से वापस ना आए।

झाइयों किन में आती है। melasma।          झाइयां यह बीमारी ज्यादातर औरतों में पाई जाती है। पुरुषों में इसका प्रमाण बहुत ही कम है। इसमें क्या होता है कि पूरे चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं। पूरे चेहरे पर खासकर के दाग धब्बे ज्यादातर गाल, नाक , माथा, lips के आजू-बाजू के हिस्से में ज्यादा आ जाते हैं।
Read more- hangover treatment in hindi  झाइयों का कारण। causes of melasma ।            और…

Coronavirus prevention in hindi

Coronavirus prevention in hindi  - कोरोनावायरस ने तो दिमाग खराब कर रखा है। इधर जाओ, उधर जाओ,  कोरोनावायरस, न्यूज़ लगाओ तो भी सिर्फ और सिर्फ कोरोनावायरस है। पूरा विश्व अब इंतजार कर रहा है कि कोरोनावायरस कब जाएगा और हम कब चैन की सांस ले सकेंगे। लेकिन कोरोनावायरस है कि वह जाता ही नहीं है।

Read this post in English

        WHO डब्ल्यू डब्ल्यू एच ओ ने स्पष्ट कर दिया है कि शायद कोरोनावायरस अब कभी भी नहीं जाएगा। जैसे स्वाइन फ्लू रहेगा वैसे ही कोरोनावायरस कोविड-19 रह सकता है। और साथ ही दूसरे शास्त्रज्ञोंकी माने तो अगर कोरोनावायरस गया भी तो कम से कम 6 महीने से 1 साल तो वह रहेगा ही रहेगा। उसके  बाद ही उसके कम होने के चांसेस है।

       अभी lockdown धीरे  धीरे उठ रहा है। दुकानें शुरू हो गई है, कंपनी शुरू हो गए हैं, लोग अपने अपने जॉब पर जाने लगे हैं। धीरे-धीरे कुछ दिनों में पूरी तरह से लॉक डाउन उठ जाएगा। मेट्रो सिटीज से गांव में लोग आना शुरू हो चुके हैं। इन दोनों वजह से पूरे देश में अब कोरोनावायरस फैलने का बहुत ही ज्यादा चांसेस है। तो अभी हमें बहुत ही ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ेगी।             अगर ह…