सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोविड-19 टीका

Coronavirus vaccine
कोरोनाव्हायरस का टीका 

दुनिया के बहुत सारे देश वैक्सिंग खोज निकालने में जुटे हुए हैं। इनमें से चार वैक्सीन बहुत ही महत्वपूर्ण है।  पहला अमेरिका के मॉडर्ना vaccine,  दूसरे रशिया  कि Gamalia यूनिवर्सिटी की वैक्सीन, जो मैंने पहले बताया। तीसरी है ऑक्सफर्ड जो ब्रिटेन की कंपनी है, जिसका उत्पादन भारत में सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है। चौथी है भारत बायोटेक की कोएक्सिंग covaccine ।
Read this post in ENGLISH 

Covid-19 vaccine 


सबसे पहले बात करेंगे रशिया की वैक्सीन के बारे में। उन्होंने यह  वैक्सीन उनके देश के फ्रंट  लाइन कोविड-19 योद्धाओं को ही लिए देना शुरू कर दिया है।  और उन्होने डिक्लेअर कर दिया है कि अक्टूबर से हर एक नागरिक को रशिया के दी जाएगी। यह टीका  भारत में बनाने के लिए डिस्कशन अभी जारी है।

लेकिन यह वैक्सीन दिसंबर से पहले भारतीयों में दिए जाने की आशायें  बहुत ही कम है। क्योंकि इसका मास प्रोडक्शन अभी से शुरू हुआ है। लेकिन वो पहले रशिया में ही दी जाएगी। इसका उत्पादन भारत में भी शुरू हुआ तब भी उसका टेस्टिंग नहीं किया गया है।  हम भारतीयों के ऊपर पहले फेस 1 फेस टू फेस 3 का टेस्टिंग होगा। उसके नतीजे अगर अच्छे निकले तभी ए भारतीयों में दी जाएगी।

दूसरी है अमेरिका की मॉडर्ना की vaccine । इस वैक्सीन का थर्ड स्टेज ट्रायल अभी शुरू है अमेरिका में। उसके बाद उसका पेपर वर्क  और उसका approval । इसका अप्रूवल  अगस्त end  तक मिल सकता है।लेकिन यह भी रशिया  के vaccine कि जैसे ही,  हमें दिसंबर से पहले मिलने के आसार बहुत ही कम है।

  इसका  भी फेस 1 फेस टू फेस 3 का ट्रायल पहली बार  भारतीयों पर होगा।  और उसके नतीजे देखकर ही हम भारतीयों को यह दी जाएगी।   यह भी पहले अमेरिका के हेल्थ वर्कर्स और आम जनता को दी जाएगी। उसके बाद मास प्रोडक्शन होकर ही इंडिया में मिल सकती है। इसके लिए जनवरी भी हो आ सकता है।
Read more- hangover treatment in hindi 

तीसरी है ऑक्सफोर्ड सिरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन। इसका third stage का ट्रायल अभी इंडिया में शुरू होने जा रहा है।यह 14 दिन तक चलेगा । उसके बाद भी साइंटिस्ट ने अकर ग्रीन सिग्नल दिखाया तो ही यह भारतीयों में दी जाएगी। उसके बाद उसका पेपर वर्क उसका गवर्नमेंट अप्रूवल लेने के बाद, यह हमारे यहां के covid योद्धा  को पहले दी जाएगी। उसके बाद ही हर एक आदमी को मिलने के आसार हैं। लेकिन इसके लिए भी कम से कम अक्टूबर का महीना आ सकता है।

  चौथी है भारत बायोटेक की कोवैक्सिस। ईस  का स्टेज 2 का trial भी खत्म होने वाला है। उसका स्टेज 3 का  ट्रायल हम इंडियंस पर अभी थोड़े दिनों में शुरू हो जाएगा। इसका भी गवर्नमेंट अप्रूवल और पेपर वर्क लेने के बाद अक्टूबर में ही या फिर नवंबर में ही आम भारतीयों को दी जा सकती है।

Coronavirus vaccine 


तो हम इंडियंस के लिए आप सबसे महत्वपूर्ण कौनसी वैक्सीन  है अब हम देखेंगे।  जो हमें जल्दी से जल्दी मिल सकते हैं और आम आदमी में जल्दी दी जाएगी।

वैसेतो अमेरिका और रशिया की वैक्सीन का हमें कोई भी यूज़ नहीं है। क्योंकि कभी यह भारत में आज आ जाए तभ  भी, जैसे वह रशिया में और अमेरिका में वर्क करती है ऐसा कोई भी गारंटी नहीं दे सकता कि यह भारतीयों में भी ऐसा ही वर्क करेगी। तो हम भारतीयों में इसके रिजल्ट अच्छे आते हैं या नहीं यह देखने के लिए पहले हम भारतीयों में इसके ट्रायल किए जाएंगे। फिर ट्रायल के रिजल्ट अच्छे आने पर ही हम भारतीयों में दिए जाएंगे। इसमें बहुत ही टाइम लग सकता है।

हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन और कोवैक्सीन भारत बायोटेक की। क्योंकि इनका भी दूसरे और तीसरे स्टेज का ह्युमन  ट्रायल भारत में ही शुरू है। जब भी यह गवर्नमेंट अप्रूवल इसका मिल जाएगा तब  आम जनता को देने के लिए तैयार हो जाएगी। उसमें भी ऑक्सफोर्ड सिरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन सबसे महत्वपूर्ण है। क्योंकि इसके millions of doses से पहले से ही सिरम इंस्टीट्यूट के पास तैयार है। जैसे ही गवर्नमेंट का अप्रूवल मिलेगा यह वैक्सीन आम जनता के लिए दी जा सकती है।

कोवैक्सीन का ड्रॉबैक यही है कि इसका अभी मास प्रोडक्शन शुरू नहीं हुआ है।  हम भारतीयों में देने के लिए इसका इसके बहुत सारे करोड़ डोसेस लगेंगे। गवर्नमेंट अप्रूवल मिलने के बाद इसका प्रोसेस स्टार्ट हो जाएगा मास प्रोडक्शन का। इसीलिए सबसे पहले ऑक्सफोर्ड की ही वैक्सीन इंडिया के लिए आ सकती है। और उसके बाद भारत बायोटेक की कोई आ सकती है।
Tips to prevent pregnancy

Stay fit stay healthy ।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Melasma in hindi

Melasma in hindi - बहुत सारे लोगों के चेहरे पर झाइयां आ जाती है।  इसे अंग्रेजी में मेलास्मा भी कहते हैं । चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं।  झाइयों के ऊपर, काले दाग धब्बों के ऊपर आपको बहुत सारे आर्टिकल्स ब्लॉग्स  मिल जाएंगे।  किसी ने 3 दिन में दाग धब्बे कम करने को कहा है। किसी ने इसके ऊपर घरेलू उपाय बताएं है।
Read this post in English

     लेकिन मैं आपको आज झाइयां हटाने के लिए, चेहरे के काले दाग धब्बे हटाने के लिए, एक ऐसी क्रीम बताऊंगा जिससे आपकी दाग धब्बे पूरी तरह से और हमेशा के लिए ठीक हो जाएंगे। यह पूरी तरह से साइंटिफिक जानकारी होगी। और इसके साथ साथ कोई टिप्स भी बताऊंगा जिससे यह फिर से वापस ना आए।

झाइयों किन में आती है। melasma।          झाइयां यह बीमारी ज्यादातर औरतों में पाई जाती है। पुरुषों में इसका प्रमाण बहुत ही कम है। इसमें क्या होता है कि पूरे चेहरे पर काले दाग धब्बे आ जाते हैं। पूरे चेहरे पर खासकर के दाग धब्बे ज्यादातर गाल, नाक , माथा, lips के आजू-बाजू के हिस्से में ज्यादा आ जाते हैं।
Read more- hangover treatment in hindi  झाइयों का कारण। causes of melasma ।            और…

Coronavirus prevention in hindi

Coronavirus prevention in hindi  - कोरोनावायरस ने तो दिमाग खराब कर रखा है। इधर जाओ, उधर जाओ,  कोरोनावायरस, न्यूज़ लगाओ तो भी सिर्फ और सिर्फ कोरोनावायरस है। पूरा विश्व अब इंतजार कर रहा है कि कोरोनावायरस कब जाएगा और हम कब चैन की सांस ले सकेंगे। लेकिन कोरोनावायरस है कि वह जाता ही नहीं है।

Read this post in English

        WHO डब्ल्यू डब्ल्यू एच ओ ने स्पष्ट कर दिया है कि शायद कोरोनावायरस अब कभी भी नहीं जाएगा। जैसे स्वाइन फ्लू रहेगा वैसे ही कोरोनावायरस कोविड-19 रह सकता है। और साथ ही दूसरे शास्त्रज्ञोंकी माने तो अगर कोरोनावायरस गया भी तो कम से कम 6 महीने से 1 साल तो वह रहेगा ही रहेगा। उसके  बाद ही उसके कम होने के चांसेस है।

       अभी lockdown धीरे  धीरे उठ रहा है। दुकानें शुरू हो गई है, कंपनी शुरू हो गए हैं, लोग अपने अपने जॉब पर जाने लगे हैं। धीरे-धीरे कुछ दिनों में पूरी तरह से लॉक डाउन उठ जाएगा। मेट्रो सिटीज से गांव में लोग आना शुरू हो चुके हैं। इन दोनों वजह से पूरे देश में अब कोरोनावायरस फैलने का बहुत ही ज्यादा चांसेस है। तो अभी हमें बहुत ही ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ेगी।             अगर ह…